You must Sign In to post a response.
  • Category: Suggestions and Feedbacks

    चुनाबी समय मैं नयी जंग आईएस तथा आईपीएस मैं बड़ा कौन

    उत्तर प्रदेश मैं एक तरफ तो चुनाबी समर अपने शबाब पर है वहीँ दूसरी तरफ देश के दो प्रशासनिक सेबाओं के बड़े अफसरों के बीच बड़े की लड़ाई शुरू हो गयी है . बैसे तो आईएस तथा आई पी एस अलग अलग कैडर के अधिकारी हैं परन्तु कभी कभी तो आईएस रोजमर्रा के कार्यों मैं आई पी एस के कार्यों मैं रोड़ा अटकाते हैं ओ कभी उल्टा होता है ! अगर इन दोनों कैडरों के बीच अंडरस्टेंडिंग बनी रहती है तो सब कुछ ठीक चलता रहता है बरना माहोल ख़राब हो जाता है ! रिटायर्ड पुलिस अधिकारीयों के अनुसार कौन सा थानेदार किस पुलिस थाणे मैं अछ्छा कार्य कर सकता है इसे एक पुलिस अधिकारी ही अच्छी तरह जान सकता है परन्तु एक थानेदार की तैने बदलने के लिए एक आई पी एस को डीऍम के पास फाइल भेजनी पड़ती है जिसे डी ऍम लम्बे समय तक दबाये रहते हैं !जबकि कई जानकारों के मुताबिक़ डी ऍम जिले का मालिक होता है और उसे जिले मैं हो रही सभी गतिबिधियों का पता होना चाहिए तथा दोनों कैडर के अधिकारियों को मिलकर काम करना चाहिए !
  • #1383
    both person is right on eachother post with thier work & responsibility.


  • This thread is locked for new responses. Please post your comments and questions as a separate thread.
    If required, refer to the URL of this page in your new post.